Coronavirus origin: कोरोना वायरस, 17 वर्ष और जानवरों के बीच संबंध, सनसनीखेज दावा,Corona virus, 17 years old story and the relationship between animals, researchers’ sensational claim

Coronavirus origin: कोरोना वायरस, 17 वर्ष और जानवरों के बीच संबंध, सनसनीखेज दावा,Corona virus, 17 years old story and the relationship between animals, researchers’ sensational claim

corona epidemic, corona virus origin, corona virus, SARS covid-19 virus, china, corona infection, corona spread from which country


कोरोना वायरस की ओरिजिन के संबंध में अलग अलग दलीलें दी जाती हैं।&nbsp

मुख्य बातें

  • कोरोना वायरस की उत्पत्ति के मामले में पश्चिमी देश चीन को शक की नजर से देखते हैं

  • दिसंबर 2019 से चीन ते वुहान से कोरोना वायरस के फैलने की शुरुआत हुई

  • दुनिया के कुछ देशों को छोड़कर ज्यादातर मुल्क की कोरोना की दूसरी, तीसरी या चौथी लहर का सामना कर रहे हैं।

कोविड कहर का सामना दुनिया के अलग अलग मुल्क कर रहे हैं। कहीं दूसरी लहर तो कहीं तीसरी और कहीं चौथी लहर की खबरें हैं। इन सबके बीच बड़ा सवाल आज भी है कि सार्स कोरोना वायरस आखिर कैसे और कहां से आया। कुछ शोध के मुताबिक सार्स कोरोना वायरस आज से 17 साल पहले भी इसी तरह के कुछ मामले सामने आए थे और उसका संबंध जानवरों से था। शोधकर्ताओं का कहना है कि अगर सार्स कोव-2 के एपिडेमिलॉजिकल सिक्वेंस को देखें तो ऐसा प्रतीत होता है कि इसका संबंध भी जावनरों से ही है। 

17 साल पहले सार्स वायरस और कोविड-19 में समानता !

शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन के एक प्रीप्रिंट संस्करण में SARS-CoV-2 के आनुवंशिक हस्ताक्षर, प्रारंभिक महामारी विज्ञान और वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में किए गए शोध के लिए विस्तृत विवरण दिया। पेपर  जिसकी समीक्षा होनी बाकी है, बुधवार को जारी किया गया था और इसे प्रकाशन के लिए एक जर्नल में जमा किया जाना है। पेपर के प्री-प्रिंट संस्करण पर कोरोनवीरस और वायरस के आनुवंशिकी के कुछ प्रमुख विशेषज्ञों द्वारा हस्ताक्षर किए गए हैं, जिनमें कैलिफोर्निया के ला जोला में द स्क्रिप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट के क्रिस्टियन एंडरसन शामिल हैं। एरिज़ोना विश्वविद्यालय के विकासवादी जीवविज्ञानी माइकल वोरोबे एडिनबर्ग विश्वविद्यालय में विकासवादी जीवविज्ञान संस्थान के एंड्रयू रामबाउट, यूटा विश्वविद्यालय में मानव आनुवंशिकी विभाग के स्टीफन गोल्डस्टीन; सस्केचेवान विश्वविद्यालय के एंजेला रासमुसेन, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, सैन डिएगो के जोएल वर्थाइम और ब्रिटेन के वेलकम ट्रस्ट के जेरेमी फरार शामिल हैं। 

शक के घेरे में वुहान लैब

ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि या तो यह वुहान लैब से लीक हुआ होगा या जानवरों से इंसानों में जूनोटिक ट्रांसफर का मामला हो सकता है। वर्तमान में कोई सबूत नहीं है कि SARS-CoV-2 की एक प्रयोगशाला उत्पत्ति है। इस बात का कोई सबूत नहीं है कि किसी भी शुरुआती मामलों का वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (WIV) से कोई संबंध था। इसके विपरीत वुहान में पशु बाजारों के लिए स्पष्ट महामारी विज्ञान लिंक के विपरीत, और न ही सबूत है कि वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के पास महामारी से पहले SARS-CoV-2 के पूर्वज थे या काम करते थे। 

17 साल पहले SARS के केस हुआनान में पाए गए

17 साल पहले SARS का ऐसा ही प्रकोप वुहान के हुआनान थोक समुद्री भोजन बाजार से सामने आया था, जिसमें जीवित, जंगली जानवर बेचे जाते थे। हालांकि शोधकर्ताओं को अभी तक SARS-CoV-2 के लिए कोई चमगादड़ जलाशय या मध्यवर्ती पशु मेजबान नहीं मिला है।पहले प्रकाशित एक अध्ययन में दावा किया गया था कि कोविड -19 का कारण बनने वाला वायरस चीन में अक्टूबर 2019 की शुरुआत में फैलना शुरू हो गया था। इसके दो महीने पहले वुहान प्रांत में पहली बार रिपोर्ट किया गया था। शोध इस अटकल को बल देता है कि पहले मामले सामने आने से पहले ही कोरोना वायरस के अन्य रूप प्रचलन में थे।

संबंधित खबरें


#Coronavirus #origin #करन #वयरस #वरष #और #जनवर #क #बच #सबध #सनसनखज #दवCorona #virus #years #story #relationship #animals #researchers #sensational #claim

See also  'Outright lies', says China on reports that it investigated weaponising coronaviruses in 2015-World News , Technomiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *